Chhattisgarh Latest News in Hindi | Live Chhattisgarh | Chhattisgarh News
Live Chhattisgarh | Chhattisgarh News

बस्तर के विकास के लिए बिजली की नई लाइफलाइन बनेगा 400 के.व्ही. सब स्टेशन

Spread the news

बस्तर,किसी भी क्षेत्र के विकास में बिजली का अहम योगदान होता है, आदिवासी और पिछड़े माने जाने वाले बस्तर के विकास के लिए राज्य शासन नेअहम कदम उठाते हुए दो बड़ी सौगात दी है। जिसमें 476 करोड़  की लागत से 400 के.व्ही. की 650 सर्किट किलोमीटर उच्चदाब लाइन का निर्माण किया गया है। साथ ही 123 करोड़ की लागत से 400/220 के.व्ही के अतिउच्चदाब उपकेंद्र का निर्माण परचनपाल@महुपाल बरई में किया गया है। आदिवासीअंचल बस्तर की विद्युत सेवा अब राजधानी रायपुर के निकट  धरसीवां  स्थित ग्राम रायता में निर्मित 400 केव्ही उपकेन्द्र से सीधे जुड़ गई है। इसीउपकेंद्र से नगरनार स्टील प्लांट को भी विद्युत आपूर्ति की जायेगी

विदित हो कि पारेषण कंपनी द्वारा राज्य शासन की नीति के अनुरूप आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र बस्तर के तीव्र विकास को दृष्टिगत रखते हुए वहा विशालकायविद्युत उपकेन्द्र का निर्माण किया गया है।  इस नवनिर्मित लाईन के संबंध में जानकारी देते हुए ट्रांसमिशन कंपनी की प्रबंध निदेशक श्रीमती तृप्तिसिन्हा ने बताया कि प्रदेश के विद्युत मानचित्र पर ट्रांसमिशन प्रणाली के विस्तार की दिशा में कंपनी की यह एक बड़ी उपलब्धि है। लगभग 476 करोड़रूपये की लागत से निर्मित रायता (धरसींवा) से जगदलुपर तक 400 केव्ही की अतिउच्चदाब लाईन के पूर्ण एवं ऊर्जीकृत होने से न केवल नगरनार मेंनिर्माणाधीन एनएमडीसी के स्टील प्लांट को लाभ होगा बल्कि वनांचल क्षेत्र बस्तर के औद्योगिक विकास को गति देने में भी यह सहायक होगी। अबबस्तर क्षेत्र को 220 एवं 132 केव्ही के साथ साथ 400 केव्ही की ट्रांसमिशन लाइन से जोड़ दिया गया है।  राज्य स्थापना के समय 400 के.व्ही. लाईन वर्ष2000 में 277 सर्किट किलोमीटर थी, जो कि अब बढ़कर 1915 सर्किट किलोमीटर हो गई है। बस्तर में अभी तक 220 और 132 केव्ही की ट्रांसमिशनलाईन थी, 400 केव्ही की नई लाईन डालने से बस्तर अंचल रायपुर से जुड़ गया है। 400 केव्ही की यह लाईन बस्तर क्षेत्र के लिए वरदान साबित होगी।इससे वहां वोल्टेज की समस्या नहीं रहेगी और विभिन्न श्रेणी के उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्ण बिजली मिल सकेगी।

Comments
Loading...