Chhattisgarh Latest News in Hindi | Live Chhattisgarh | Chhattisgarh News
Live Chhattisgarh | Chhattisgarh News

रोबोट कैटरपिलर से लाइलाज बिमारी का इलाज संभव होगा

Spread the news

 

वॉशिंगटन। हॉन्ग-कॉन्ग के सिटी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने टेक्नोलॉजी के नई संभावनाएं पैदा की हैं, जिनके बारे में कुछ दशकों पहले तक सोचना भी असंभव था। जिन बीमारियों का इलाज नामुकिन था, जिसके कारण मेडिकल साइंस भी एक लंबा सफर तय कर चुकी है और अब उन बीमारियों का इलाज भी संभव हो रहा है। शोधकर्ताओं ने मेडिकल टेक्नोलॉजी को अगले स्तर पर ले जाते हुए सीधे शरीर के अंदर दवाओं की डिलीवर करने के लिए एक छोटे रोबोटिक कैटरपिलर को विकसित किया है। उनका दावा है कि रोबोट विभिन्न वातावरणों के अनुकूल हो सकता है और शरीर के अंदर तरल पदार्थ के साथ विभिन्न सतहों पर आसानी से मूव कर सकता है।

- Advertisement -

पाचन तंत्र में किसी तय जगह पर दवा भेजने के लिए या फिर मेडिकल जांच करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है। इस रोबोट में एक मिलीमीटर लंबे पैर भी हैं, जो छोटे बाल की तरह दिखते हैं। मरीजों को इस कैटरपिलर को निगलना होता है या यह त्वचा में एक कैविटी के जरिये शरीर में डाला जाता है।

यह सिलिकॉन से बना है और इसमें मैग्नेटिक पार्टिकल जुड़े हुए हैं। लिहाजा इस डिवाइस को रिमोट कंट्रोल से नियंत्रित किया जा सकता है। रोबोट दवाओं को शरीर के अंदर ले जाने में सक्षम है।  रोबोट की मोटाई 0.15 मिमी है। लैब टेस्ट में पता चला है कि रोबोट अपने वजन से 100 गुना अधिक भार ले जाने में सक्षम है।

Comments
Loading...