Chhattisgarh Latest News in Hindi | Live Chhattisgarh | Chhattisgarh News
Live Chhattisgarh | Chhattisgarh News

कट्टर कांग्रेसी क्यों हुए ओपी चौधरी के मुरीद, एक मंच पर दिखने का खेल, क्या ढ़हने लगा है उमेश पटेल का किला ?

वेब डेस्क

Spread the news

रायगढ़। खरसिया में ऊंट किस करवट बैठेगा ये तो आने वाला वक्त बताएगा..लेकिन इन दिनों खरसिया की राजनीति में हवाओं का रुख जरूर बदला-बदला सा नजर आ रहा है…यहां के दंगल में पुराने पहलवानों को अपने अखाड़े में अब बराबरी की टक्कर देने वाला पहलवान मिला है..इस नए पहलवान के साथ न सिर्फ नई टीम है बल्कि पुराने पहलवान के मेंटर भी साथ हो लिए हैं…मौका था महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर युवा संगोष्ठी का..लेकिन इस संगोष्ठी में कुछ ऐसे दृश्य दिखे जिन्हें देखकर विरोधियों के बाल जरूर खड़े हो गए होंगे..क्योंकि विरोधी खेमे के सबसे करीबी माने जाने वाले नेता बालकराम पटेल ओपी के साथ हाथ से हाथ मिलाते नजर आ रहे थे..हां लेकिन ये हाथ इस बार उनकी पार्टी का नहीं बल्कि दूसरी पार्टी के साथ वालों का था..इस नजारें को देखकर राजनीति के धुरंधरों ने ये अंदाजा लगाना शुरु कर दिया कि आने वाले चुनाव में क्या होने वाला है..क्योंकि ओपी के खेमे में यदि नया खिलाड़ी शामिल हो गया तो चुनाव के नतीजे क्या होंगे..ये हर कोई जानता है..क्योंकि इसी खिलाड़ी के दम पर आज तक विरोधी खेमे में अपने अखाड़े में हर चुनौती को पार किया है..लेकिन इस बार अखाड़े में चुनौती को टक्कर देने वाले ये खिलाड़ी दूसरे पहलवान के साथ हो लिए हैं..जिसके बाद पुराने पहलवान के अखाड़े में उतरने से पहले ही पांव डगमगाने लगे हैं..इनके कांपते पांव को रोकने के लिए समर्थक आगे से और पीछे से अपना सपोर्ट लगा रहे हैं..।

- Advertisement -

सोशल मीडिया में भी पुराने साथी का छलका दर्द
कांग्रेस के कद्दावर नेता बालकराम पटेल ने अपने सोशल अकाउंट में भी कई बातों का जिक्र किया है। बालकराम के मुताबिक खरसिया विधानसभा में 2013 के पहले विकास होने की बात कही गई,लेकिन विकास आज तक गुम हैं ।ऐसे में उन्होंने अपने ब्लॉग में लिखा है कि ओपी चौधरी के आने से खरसिया विधानसभा में एक आशा की नई किरण देखने को मिलने की बात कहा गया है।

Comments
Loading...